अप्रेल फ़ूल

बधाई आप अप्रेल फ़ूल बन चुके हैं....आपका अप्रेल फ़ूल क्रमांक है.

hit counters

38 comments:

mehek said...

subh april fool bana diya ha ha ye kya tau ji.hamara fool no hai 305,baap resubh se itane jan khushbu dundh rahe hai:)

Laxman Suthar said...

i am fool laxman
but so interesting i feeling very happy being a april fool


thank you
www.maharanasaheb.tk

seema gupta said...

अप्रेल फूल ha ha ha

regards

दीपक "तिवारी साहब" said...

बहुत अच्छे ताउ, जो पहली अप्रेल को अपरेल फ़ूल बना दिया. बडी शुभ रहेगी ये साल .आपको भी मुबारक हो साल का पहला दिन.:)

चिराग जैन CHIRAG JAIN said...

यो के कर दिया ताऊ!
भई यू तो कसूता अपरेल फूल बणा दिया

इब घणा मन्ना इतरावे, चल कुछ काम-धाम भी करेगा या नू ई लोगां नै बावला बानावैगा

अन्तर सोहिल said...

मैं तो नम्बर 365 लेने के लिये आया था, दिया 356 चलो ये भी अच्छा है
हा हा हा हा हा

Abhishek Mishra said...

Fir bhi main aa gaya! Accha laga.

mukti said...

पहले ही पता था। एक अप्रैल को आप से यही उम्मीद थी।

manoj said...

ha ha ha hahaaaaaa.....
bahot=bahot dhanyabad.

poemsnpuja said...

is fool ki khusbu acchi lagi :D

Shahid "ajnabi" said...

waqai maja aa gaya

Anurag Harsh said...

धन्यवाद भाई, सुबह से पहली बार बना और नम्बर मिले 410

सिद्धार्थ जोशी Sidharth Joshi said...

मुझे नम्‍बर मिला 421


यानि पिछले दस लोग कमेंट करने से पहले ही ब्‍लॉग से भाग छूटे। :)

मोहन वशिष्‍ठ said...

वाह जी बहुत ही नायाब और बेहतरीन तरीका सोचा है आपने मूर्ख बनाने का सच में बन गए
सभी को मूर्ख दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

राहुल कौशल (जर्नलिस्ट) said...

koi to mila jisne hum ko april fhool bana diya good hain bhai

ALKAGOEL said...

chalo ye bhi khub rahi par sayad ye baat sach na ho jay

sunil said...

wah wah kaya ful mahakaya hai feel happy

Bhupendra said...

maja aa gaya yaar ummid hi nahi thi ki internet ki duniya main itni aachi hindi site hai aur wo bhi blogspot par.

bhootnath( भूतनाथ) said...

मज़ा आ गया...........हंसते-हंसते बुरा हाल हो गया....अब भी हंस ही रहा हूँ.....क्या सोचा था हो गया....क्या से क्या हो गया....हिंदी ब्लॉग टिप्स तेरे प्यार में.....हंसी भी ना रही मेरे इख्तियार में.....!!

HEY PRABHU YEH TERA PATH said...

अप्रेल फुल बनाने मे ताऊजी आप़का कोई शानी नही मिला । बहुत खुब जी

Rajendra Joshi said...

Bahut aacha tarika Dhund Diya hai aapne April Fool Banane ka Mall kamane ke chakkar main Acchee Achee Fool ban jate hain to Main to 2nd April ko april fool bana hun, Kripaya Dhanyawad kariye Mujhe Jo maine Yah Kirtiman Sthapit Kiya hai

anirban.das said...

ha ha...........badiya haa

neha said...
This comment has been removed by the author.
Dr. Amar Jyoti said...

भई वाह!:))

Deepak "बेदिल" said...

ha hahah ahhahahahahhahhahahah...

wah ji wah April fool banana to koi aap se sikhe

प्रकाश बादल said...

aapne to sachmuch hi bana daalaa aashish bhaai. aapako April Fool ki badhai>

प्रकाश बादल said...

aapne to sachmuch hi bana daalaa aashish bhaai. aapako April Fool ki badhai>

''ANYONAASTI '' {अन्योनास्ति} said...


563 हाज़िर हुजुर | पर गुरूजी खटोला बिछा ही रहेगा यानी विजेट ब्लॉग पर ट्राफी की तरह लगा ही रहेगा

ATULGAUR (ASHUTOSH) said...

आप इस सोच के लिए बधाई

T-POINT (टर्निंग पाईंट) said...

आज ३ अप्रैल ....रामनवमी है _बोलो सियावर रामचंद्र की जय !__और आप के विनोद विलास वाले फूलों की भी जय !!

Arunkumarjha said...

आशीषजी
आप की सेवा महानतम सेवा में आता है. प्रशंसा के लिए शब्द तुक्ष हो जायेंगे . मैं एक समस्या से कई महीनो से जूझ रहा हूँ. इस पोस्ट को लिख रहा हूँ. ऐसे में कितना लिख सकता हूँ? कोई दूसरा विकल्प सुझाएँ ताकि मैं अपने ब्लॉग एवं दृष्टिपात के साईट लिख सकूँ. साथ यह टिप्स दें कि अपने ब्लॉग का नाम हिंदी में सजावटी तरीके से की लगाऊं . अप्रैल फूल का मजा आजीवन न भूलने swasवाला मजा है .इश्वर आपको स्वस्थ्य रखें. मैं ऐसी कामना करता हूँ.

विजय वडनेरे said...

ही ही ही...

मैं तो यहाँ आया ही नहीं......!!!

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) said...

maja aa gaya :-)

banate rahiye magar dar hai ki kahin sach men agli baar aissa hua to log ye fool yaad kar jaayen hi na :-P

Rahul said...

aur sabse taza fool main hu no. 680

Anonymous said...

हिंदी तो आप लोगो क लिए है ही मजाक का विषय चलिए एक बार फिर से मजाक उदा दिया

Aacharya Ranjan said...

main to sachmuch kaa samajh kar ( sirf aapke headline dekhne ke kaaran ) pichle kuch dinon se apne blog par kuch jyda hi menhat kar raha tha. khair aashish ji aaj 19/09/09 ke din ek garib ka dil todne ke liye dhanyvaad aacharya ranjan

मो सम कौन ? said...

ताऊ जी, हम तो तीसरी या चौथी बार फ़ूल बने हैं(वैसे तो बने-बनाये ही हैं)-कोई फ़ूल शिरोमणि वाला इनाम-शिनाम तो बरसा देते।

आदित्य आफ़ताब "इश्क़" said...

hahahahahah.......................bindaas